August 14, 2018
  • facebook
  • twitter
  • linkedin
  • instagram

बजट 2018: अरुण जेटली ने बताया ‘Bitcoin’ को अवैध, ‘Cryptocurrency’ को सरकार ने किया अस्वीकार

  • by Ashutosh
  • February 1, 2018

पिछले कुछ महीनों से पूरा विश्व Bitcoin और इसके जैसी अन्य ‘Cryptocurrency’ के इस्तेमाल संबंधी आयाम तलाश रहा है, और ऐसे में भारत सरकार से यह उम्मीद की जा रही थी कि इस बजट में सरकार देश में ‘Cryptocurrency’ के इस्तेमाल संबंधी दिशा में कुछ प्रावधान ला सकती है |

लेकिन आज संसद में सरकार की ओर से बजट पेश कर रहे वित्त मंत्री अरुण जेटली ने ‘Bitcoin’ और ऐसी तमाम अन्य क्रिप्टोकरेंसी के देश में इस्तेमाल को लगाई जाने वाली सारी अटकलों पर यह कहते हुए विराम लगा दिया कि,

“ Cryptocurrency भारत में पूरी तरह से अवैध है और सरकार ऐसी किसी भी चीज़ को देश में मान्यता नहीं देगी ”

आज बजट पेश करने के दौरान वित्त मंत्री अरुण जेटली ने अपने भाषण में कहा कि भारत में किसी भी प्रकार के क्रिप्टोकरेंसी संबंधी लेन-देंन को अवैध माना जाएगा और साथ ही सरकार अवैध लेन-देन के लिए क्रिप्‍टो करंसी के इस्तेमाल को भी रोकने के सभी प्रयास करेगी |

रिजर्व बैंक पहले ही कर चुका है इस दिशा की सभी संभवनाओं को खारिच

हम आपको यह बताना चाहेंगें कि सरकार के आज के ऐलान के पहले ही रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया भी बिटकॉइन जैसी क्रिप्टोकरेंसी अवैध बता कर देश में इसके इस्तेमाल संबंधी सभी संभवनाओं को खारिज कर चुका है |

क्या आप जानते हैं?

इन सब के बीच क्या आपको पता है दुनिया भर में हो रहे हर 10 Bitcoin के लेने-देन में से 1 भारत से होता है |

रिलायंस ने भी नहीं लांच करेगा ‘जियोकॉइन’

कुछ दिनों पहले ही ऐसी ख़बरें काफ़ी चर्चा में थीं कि मुकेश अंबानी अधिकृत रिलायंस भी जल्द जियोकॉइन के नाम से अपनी क्रिप्टोकरेंसी लॉन्च करने की तैयारी में है, लेकिन बजट से पहले ही जियो ने यह साफ कर दिया कि वह ऐसा कोई कदम नहीं उठाने जा रहें हैं |

बिटकॉइन पर व‍ित्त मंत्रालय भी दे चुका है बड़ा बयान

हालाँकि इससे पहले भी सरकार लोगों को बिटकॉइन में पैसा लगाने के संबंध में लेकर आगाह करती रही है | सरकार पहले ही कह चुकी है कि

“ इस वर्चुअल करंसी को कोई आधिकारिक मान्यता नहीं है,ये फर्जी चिटफंड की तरह है, इसे कोई सरकारी संस्था नहीं चलाती है, इसे चलाने का कोई मान्य तरीका भी नहीं है, जिसके चलते लोगों के साथ धोखाधड़ी हो सकती है,

इससे निवेशकों विशेषकर खुदरा ग्राहकों को अचानक भारी नुकसान हो सकता है और उनकी गाढ़ी कमाई पल भर में डूब भी सकती है ”

अब देखना यह दिलचस्प होगा कि दुनिया भर में अपना डंका बजा कर, कई देशों की अर्थव्यवस्थाओं का हिस्सा बन चुकी इस मुद्रा को आख़िर किस तरह सुरक्षित बनाते हुए देश में स्वीकारा जाएगा |

आप भी देश में ‘Cryptocurrency’ के इस्तेमाल को लेकर अपनी राय नीचे कमेंट बॉक्स के जरिये अवश्य साझा करें 🙂

Previous «
Next »

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *