May 24, 2018
  • facebook
  • twitter
  • linkedin
  • instagram

“खाप पंचायतों को बैन करे केंद्र सरकार, वरना हमें देना पड़ेगा दख़ल”: सुप्रीम कोर्ट

  • by Ashutosh
  • January 16, 2018

खाप पंचायतों के मनमाने और ग़ैरकानूनी फ़ैसलों के किस्से हमनें कई बार सुने हैं और इसका विरोध कोई आज की बात नहीं है | पहले भी सुप्रीम कोर्ट समस्त कई संगठन, सरकारों से इसको बैन करने की गुजारिश कर चुकें हैं |

लेकिन आज खाप पंचायतों के खिलाफ कड़ा रुख अपनाते हुए, सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को फटकार लगाई और कहा,

” किसी भी बालिग जोड़े को प्रेम विवाह करने से कोई खाप नहीं रोक सकती और प्रेम विवाह करने वालों के खिलाफ खाप के फरमान पूरी तरह से गैरकानूनी हैं “

आज चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली तीन जजों की बेंच ने इससे जुड़े मामले की सुनवाई करते हुए कहा,

” कोई भी खाप, समाज या माता-पिता, बालिगों को किसी के साथ प्रेम विवाह करने से रोक नहीं सकते “

हम आपको बता दें कि तीन जजों वाली इस बेंच में सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा समेत जस्टिस एएम खानविलकर और जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ भी शामिल रहे |

केंद्र सरकार जल्द करे खाप पंचायतों को बैन

सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को भी फटकारते हुए सरकार से इस मामले में कार्यवाई करते हुए, खाप पंचायतों को जल्द से जल्द बैन करने के लिए कहा और अपने वक्तव्य में यह भी कहा,

” अगर खाप पंचायतों को बैन करने के लिए केंद्र सरकार द्वारा कोई कदम नहीं उठाए जाते हैं तो फिर कोर्ट इस पर कार्रवाई करेगा “

इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने प्रेम विवाह करने वालों पर हो रहे हमलों को रोकने में नाकाम साबित हो रही केंद्र और राज्य सरकारों से नाराज़गी भी जताई |

इस बीच इस मामले में अब कोर्ट ने अगली सुनवाई दो हफ्तों बाद करने के निर्देश दिए हैं |

Previous «
Next »

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *