July 22, 2018
  • facebook
  • twitter
  • linkedin
  • instagram

महिलाओं के लिए दुनिया का सबसे असुरक्षित देश है भारत: सर्वे

  • by Ashutosh
  • June 26, 2018

हाल ही में थॉमसन रॉयटर्स फांउडेशन (Thomson Reuters Foundation) द्वारा किये गए एक सर्वे में भारत को महिलाओं के लिए दुनिया का सबसे खतरनाक अर्थात् असुरक्षित देश बताया गया है। सर्वे में महिलाओं के खिलाफ यौन हिंसा और उन्हें सेक्स संबंधी धंधों के लिए मजबूर करने के ज्यादा जोखिम होने के कारण भारत को सबसे असुरक्षित देश बताया गया माना गया है।

वहीं इस सर्वे में दूसरे और तीसरे नंबर पर अफगानिस्तान और सीरिया हैं, साथ ही टॉप 10 की लिस्ट में अमेरिका भी शामिल है। हम आपको बता दें कि इस सर्वे में 550 विशेषज्ञों ने हिस्सा लिया था। महिलाओं के खिलाफ होने वाली हिंसा को मुख्य मापदंड बनाते हुए भारत को महिलाओं के लिए दुनिया का सबसे असुरक्षित देश बताया गया है।

हालाँकि इस श्रेणी में 2011 में हुए सर्वे में भारत चौथे स्थान पर था, लेकिन 2018 में दुखद रूप से भारत अब इस मामले में शीर्ष पर है।

सर्वे 2011 सर्वे 2018
अफगानिस्तान भारत
कांगो अफगानिस्तान
पाकिस्तान सीरिया
भारत सोमालिया
सोमालिया सोमालिया

गौरतलब है कि इस लिस्ट में अमेरिका इकलौता पश्चिमी देश भी है, जहाँ पिछले कुछ वर्षों में महिलाओं के साथ होने वाले कई हिंसक मामले सामने आये हैं, और तुलनात्मक रूप से ऐसी दुखद घटनाओं में इजाफा हुआ है। और वहां #MeToo और Times Up जैसे आंदोलनों से महिलाओं ने अपने हक की लड़ाई लड़ी है।

विशेषज्ञों के अनुसार, इस सर्वे से जाहिर है कि देश में महिलाओं की सुरक्षा के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाए गए हैं, और न ही इसको लेकर सरकारों ने अब तक गंभीरता दिखाई है। साल 2012 में दिल्ली में हुए दुखद निर्भया गैंगरेप के आज पांच साल बाद भी भारत में महिलाओ की वही स्थिति है, जो वाकई काफ़ी दुखद और गंभीर विषय है।

वनइंडिया की एक रिपोर्ट के अनुसार, इस पर कर्नाटक की सरकारी अधिकारी मंजुनाथ गंगधरा ने कहा,

‘भारत ने महिलाओं के लिए पूरी तरह से उपेक्षा और अपमान है। और दुःख की बात यह है कि बलात्कार, मैरिटल रेप, यौन उत्पीड़न और उत्पीड़न, कन्या भ्रूण हत्या, इन सब पर ध्यान ही नहीं दिया जाता।’

इस रिपोर्ट में ही बताया गया कि सरकारी आंकड़ों के मुताबिक साल 2007 से 2016 तक में महिलाओं के खिलाफ हिंसा के मामलों में 83 प्रतिशत का इजाफा हुआ है। देश में हर चार घंटे में एक बलात्कार का मामला दर्ज होता है।

यह सर्वे एक आईना है हमारे समाज की कड़वी सच्चाई का या कहें तो एक मौका है हमें जगाने का, सरकारों को यह एहसास दिलाने का की जिस देश समाज में महिलाओं की सुरक्षा नहीं सुनिश्चित की जा सकती, वह देश मजबूत अर्थव्यवस्था के खोखले दावों के सहारे क्या दुनिया के पटल में सर उठा के खड़ा रह पायेगा?

Previous «
Next »

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *