August 16, 2018
  • facebook
  • twitter
  • linkedin
  • instagram

1992 मुंबई दंगों में जान बचाने वाले परिवार से 26 साल बाद फ़िर मिले शेफ विकास खन्ना

  • by Ashutosh
  • June 14, 2018

कहते हैं कोई कितना भी धर्म जाति के नाम पर लोगों को बांटने की कोशिशें करे, लेकिन इंसानियत का रिश्ता लोगों को हमेशा ही भावनात्मक आधार पर बांधे रखने का काम करता है।

और हाल ही में ऐसा ही एक उदाहरण सामने आया है, जो घटनात्मक रूप से भले ही पुराना हो, लेकिन आज के माहौल को देखते हुए, हमें ऐसी मिसालों को समाज में जिंदा रखने की जरूरत है।

दरसल न्यूयॉर्क में बसे भारतीय मूल के मशहूर शेफ विकास खन्ना ने हाल ही में एक खुलासा किया है कि वे रमज़ान के पवित्र महीने में एक दिन का रोज़ा रखते हैं और ऐसा वो 1992 से कर रहे हैं, जिस साल मुंबई में भयानक दंगे हुए थे। दरसल उन दंगों के दौरान उनके साथ कुछ ऐसा हुआ जिसने उन्हें भावनात्मक और व्यक्तिगत रूप में काफ़ी बदल दिया।

दरसल उन दिनों विकास मुंबई के एक होटल में अपनी शिफ्ट पूरी कर रहे थे, जब उन्हें शहर में फैले दंगों के बारे में पता चला।

अनुपम खेर के साथ एक टीवी शो इंटरव्यू में विकास ने बताया था,

“हमें सुनने में आया कि घाटकोपर में आगजनी के चलते बहुत लोग मारे गए हैं, उस समय मेरा भाई घाटकोपर में रहता था।”

इन सब के बीचविकास ने बाहर जाकर अपने भाई को ढूंढने का निर्णय लिया।

जैसे ही उन्होंने घाटकोपर की तरफ बढ़ना शुरू किया। थोड़ी दूर जाने पर एक मुस्लिम परिवार ने मुझे रोक कर पूछा कि यहां क्या कर रहे हो तब उन्होंने उन्हें बताया कि उन्हें घाटकोपर पहुंचना है, जहाँ उनके भाई हैं। लेकिन उस परिवार ने उन्हें उनके घर के अंदर आने को कहा क्योंकि बाहर लोग हिंसक हुए जा रहे थे।

थोड़ी ही देर बाद ही उपद्रवी भीड़ उस घर में आयी और पूछा कि विकास कौन है; तब परिवार के मुखिया ने जबाव दिया कि वो उनके बेटे हैं। भीड़ के जोर देने पर भी वह परिवार विकास को अपने परिवार का मुसलमान सदस्य बताता रहा। इसके बाद वह भीड़ वहां से चली गयी।

उस दयालु परिवार के साथ विकास लगभग डेढ़ दिन तक रहे और इतना ही नहीं, इसके बाद उस परिवार ने कुछ व्यवस्था कर विकास के भाई का भी पता लगवाया। जो की सुरक्षित थे।

हालाँकि दंगों के बाद, विकास का उस परिवार से सम्पर्क टूट गया। लेकिन, उस परिवार की इंसानियत के सम्मान में विकास ने हर रमज़ान में एक दिन का रोज़ा रखना शुरू कर दिया।

लेकिन 11 जून, 2018 को विकास खन्ना ने एक ट्वीट में बताया की वह बहुत खुश हैं क्यूंकि 26 सालों बाद वे फिर से उस परिवार से मिल पाए हैं जिसने उनकी जान बचाई थी।

सोर्स: The Better India 

Previous «
Next »

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *