August 16, 2018
  • facebook
  • twitter
  • linkedin
  • instagram

सतीश कौशिक ने शुरू किये “मोबाइल सिनेमाघर”, महज़ ₹35 में गाँवों में मिलेगा मल्टीप्लेक्स का अनुभव

  • by Ashutosh
  • May 29, 2018

फ़िल्में हमारे समाज में मनोरंजन का वो साधन हैं, जो छोटे-बड़े शहरों से लेकर गाँवों में भी बराबर लोकप्रिय रहीं हैं। लेकिन यह बात भी सच है कि छोटे शहरों या गाँवों में लोग मल्टीप्लेक्स या मंहगें सिनेमाघरों में फिल्में देखने पर खर्च करने में संकोच करते हैं।

लेकिन समस्या सिर्फ मंहगें सिनेमाघरों की ही नहीं, ग्रामीण भारत में आज भी बहुत से गांवों में सिनेमाघर जैसी कोई सुविधा नहीं हैं, और न ही उनके पास इंटरनेट तक पहुंच है।

लेकिन अब इस स्थिति को सुधारने के लिए, फिल्म निर्देशक सतीश कौशिक ने मोबाइल डिजिटल मूवी थियेटर (एमडीएमटी) नामक एक पहल की शुरुआत की है। इस योजना के तहत ट्रकों को सिनेमाघरों में परिवर्तित कर भारत के विभिन्न गांवों में इनकों उपलब्ध करवाने का कार्य किया जाएगा, ताकि लोग 35 रुपये से 75 रुपये की कीमत पर भी फिल्मों का आनंद ले सकें।

इन मोबाइल थिएटरों में वातानुकूलित, अग्निरोधी सुविधाएं होने के साथ ही साथ लगभग 150 लोगों के बैठने संबंधी सुविधा भी होगी। इस तरह ग्रामीण भारत में भी कम दामों पर मल्टीप्लेक्स सुविधाओं की तर्ज पर मनोरंजन की यह सुविधा मुहैया करवाई जा सकेगी।

एक रिपोर्ट के मुताबिक, प्रत्येक ट्रक का नाम एक लोकप्रिय फिल्म के नाम पर रखा जाएगा जैसे श्रीमान, बाहुबली, शहहनशाह और डॉन इत्यादि।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इन मोबाइल थियेटर का उद्घाटन करके इस अवधारणा को वास्तविकता का रूप दिया।

इस पहल के बारे में बात करते हुए सतीश कौशिक ने हिंदुस्तान टाइम्स को बताया,

"सिर्फ फिल्मों में नहीं, इस पोर्टेबल थियेटर का उपयोग शैक्षिक और सरकारी उद्देश्यों के लिए भी किया जा सकता है, जब नेता और वक्ताओं अपने भाषणों को आंतरिक भागों (देश के) तक पहुंचाने के लिए ऐसी चीज़ों का इस्तेमाल कर सकतें हैं, तो इस क्षेत्र में भी इसका उपयोग क्यूँ न किया जाए"

सोर्स: YourStory

Previous «
Next »

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *